Skip to main content

बुरके में लिपस्टिक



' जब खुला आसमान आँगन में झांकता हो तो खिड़कियों पर कितने ही मोटे  परदे लगा दो , उजाला कमरे में प्रवेश कर ही जाएगा '' ऐसी ही हिमाकत भारतीय सेंसर बोर्ड इन दिनों कर रहा है। समाज के सांस्कृतिक उत्थान की जितनी चिंता सेंसर बोर्ड को है उतनी शायद किसी को भी नहीं है। ' हर - हर  मोदी , घर -घर मोदी ' का नारा देने वाले पहलाज निहलानी को सेंसर बोर्ड चेयरमैन का पद इस एक नारे की बदौलत मिला है।  तभी से वे हर फिल्म को सर्टिफिकेट देने में विवादों में घिरते आये है। निहलानी साहब का मानना है कि भारतीय संस्कृति का बचाव करना उनकी जिम्मेदारी है , जिसे फिल्मे दूषित कर रही है।  वे इस तथ्य को भूल जाते है कि  ' कामसूत्र ' भारत में ही लिखा गया है और खजुराहों के शिल्प भी हमारे ही किन्ही पूर्वजों के हाथ से ही तराशे गए थे। बावजूद इसके हमारी संस्कृति असहिष्णु रही है। 
पिछले दो सालों में बहुत सी फिल्मों को सेंसर बोर्ड के नश्तर का शिकार होना पड़ा है।  इसमें  ग्लोबल अपील  वाली जेम्स बांड की फिल्म ' स्काई फाल ' भी शामिल है। ' गंगा जल ' अपहरण ' आरक्षण ' और ' राजनीती ' जैसी फिल्मे प्रोड्यूस करने वाले प्रकाश झा की ताजा फिल्म ' लिपस्टिक अंडर माय बुरक़ा ' इन दिनों सेंसर बोर्ड में अटकी पड़ी है। टोक्यो और मुम्बई फिल्म फेस्टिवल में यह फिल्म पुरूस्कार जीत चुकी है और अंतराष्ट्रीय स्तर पर सराही जा रही है।  भोपाल की चार महिलाओं के जीवन पर आधारित इस फिल्म को निर्देशित भी एक महिला - अलंकृता श्रीवास्तव ने किया है।  स्क्रीनिंग कमेटी  का मानना है कि फिल्म की विषय वस्तु काफी ' बोल्ड ' है और डायलॉग भी अश्लील है। निहलानी साहब का सोच है कि भारतीय नारी की ' फंतासी ' इतनी उड़ान नहीं भर सकती जितनी इसके पात्र दर्शाते है। गौर करने लायक तथ्य है कि देश के 35 प्रतिशत मोबाइल धारी इंटरनेट से जुड़े हुए है और महज एक ' क्लिक ' से  पोर्न की दुनिया में प्रवेश करने में सक्षम है। यही नहीं , अमेरिकन टेलीविज़न के सर्वाधिक चर्चित टीवी शो ' गेम ऑफ़ थ्रोन ' ब्रेकिंग बेड ' टू एंड हाफ मैन '(सेक्स , हिंसा , नग्नता , से लबरेज ) पाइरेटेड साइट्स पर आसानी से डाउनलोड हो कर देखे जा रहे है।   
इंटरनेट  खुले आसमान से हँमारे घरों में झाँक रहा है और हम ब्रिटिश कालीन सेंसर बोर्ड से संस्कृति की रक्षा कर रहे है। यह डबल स्टैण्डर्ड हमें कहीं नहीं ले जाएगा। 

Comments

Popular posts from this blog

The Bicycle Thief (1949) : एक सम्मानित साईकल चोर :

कल्पना सदैव सुहानी होती रही है और वास्तविकता ( यथार्थ ) हमेशा कठोर और खुरदरी । सिनेमा के परदे
पर चुनचुनाती रोशनी ने सपनो की इतनी मोहक दुनिया बनायी है कि बरसों से करोडो दर्शक अपने जीवन की आपा-धापी , समस्याएं , तनाव , अधूरे सपनो की कसक , से मुक्ति के  लिए सिनेमा के घाट पर आते रहे है। यह एक  तरह से घर छोड़े बगैर पलायन कर जाने जैसा है। सिनेमा यथार्थ को तो नहीं बदल सकता परंतु आईना अवश्य दिखा सकता है। ये सपने दर्शक को तनाव मुक्त करने का सबब बनते है , बावजूद इन सपनों के कुछ फिल्मकार ' यथार्थ ' चित्रण का आग्रह लेकर फिल्म बनाते रहे है। और यह काम सिनेमा के हर काल में होता रहा है।
                      इसी तरह की एक पहल 1949 में हुई थी जिसने इटालियन सिनेमा को सम्मानजनक स्थान पर बैठा दिया। सेकंड वर्ल्ड वार की समाप्ति 1945 के बाद युद्ध में शामिल अधिकाँश देशों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई थी। गरीबी , बेरोजगारी , भुखमरी अपने चरम पर थी।  यह यथार्थ था जिसे यूरोप के धनी देश भुगत रहे थे। और इसकी परिणीति हो रही थी   आम आदमी की असहायता , कुंठा और निराशा में।  निर्देशक विटोरी डी सिका ने इस सब को नजदीक …

: Gorgeous ladies in politics :अंगूरलता में और भी कुछ ख़ास है

हाल ही में संपन्न असम विधानसभा के चुनावों में भाजपा की एक आकर्षक उम्मीदवार चुन कर आई।  अगर व्हाट्सएप्प पर चलने वाले संदेशों और फोटो को लोकप्रियता का पैमाना माना जाए तो वे फिलहाल पार्टी प्रमुख नरेंद्र मोदी से भी आगे चल रही है।
चुनाव नतीजों के बाद से ही सोशल मीडिया पर उनके कुछ पुराने फोटोग्राफ्स की सुनामी आगई थी। इसमें अंगूरलता [ यह उन का नाम है ] का कोई दोष नहीं है।सिवाय इस बात के कि वे कुदरती तौर पर आकर्षक दिखती है।
एंड टेलीविज़न पर चल रहे धारवाहिक " भाभीजी घर पर है " के लम्पट पतियों की तरह पूरा देश इस समय अंगूरलता डेका को निहारने में व्यस्त है। आप गौर कीजिये इतनी तवज्जो साइना नेहवाल या टीना डाबी को नहीं दी जाती क्योंकि उनकी छवि आपके अवचेतन को झनझनाती नहीं है। टेनिस की दूर तक की जानकारी न रखने वाला शख्स भी  मारिया शरापोवा को पहचानता है . दरअसल यह परेशानी सर्वभौम और सर्वकालिक है।
sexual objectification इस प्रवृति को नाम दिया जा सकता है। संभव है अधिकाँश पुरुष उस लोलुपता से  पीड़ित न हो परन्तु सिर्फ मजे के लिए फोटो फॉरवर्ड करने के पाप से बरी नहीं हो सकते। गूगल सर्च बताती है क…

The Jungle Book : Life and time of Mogli :मोगली की कहानी

ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ कुछ भले लोग भी भारत आये थे। उन्ही में से एक थे ' जॉन लॉकवूड किपलिंग ' -महान लेखक रुडयार्ड किपलिंग के पिता। बॉम्बे के जे जे स्कूल ऑफ़ आर्ट्स के परिसर में जन्मे रुडयार्ड किपलिंग ने यायावरी जीवन जिया। उन्होंने भारत में पत्रकारिता करते हुए एक दशक बिताया था । इस अवधि में उन्होंने एक अफवाह सुनी ' मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में एक बालक को भेड़ियों के झुण्ड ने पाला पोसा ' किपलिंग ने पहली नजर में इस खबर को सिरे से ख़ारिज कर दिया। उनके नजरिये से ऐसा होना संभव नहीं था।
भारत के मोगली का जन्म यूँ अमेरिका में हुआ - जंगल बुक नाम से।
 मनुष्य का मस्तिष्क मिटटी से भी ज्यादा उर्वर है। अवचेतन में दबा कोई विचार कब विस्तार ले लेता है कहा नहीं जा सकता। वर्षों बाद जब किपलिंग   अमरीका में निवास कर रहे  थे (1893-94 )  तब उनकी कल्पना ने उस कपोल खबर को आकर देना
आरम्भ किया। इस समय तक किपलिंग स्थापित लेखक हो चुके थे और ब्रिटिश लिटरेचर को समृद्ध कर रहे थे। खबर भारत की थी परन्तु कहानियों में वह सात समंदर पार वर्मांट डलास में रूप लेने लगी थी।
' जंगल बुक ' सर्वकालिक लोकप्रि…