Thursday, March 30, 2017

एक थी अमृता एक थी कमला

 ' माय स्टोरी ' कमला दास की आत्मकथा का नाम है और इस हफ्ते दो फिल्मों की घोषणा हुई है जो इस आत्मकथा पर आधारित है।  अंग्रेजी और मलयालम में बंनने वाली ये फिल्मे कमला दास के जीवन पर बनेगी।  हिंदी पाठकों के लिए कमला दास का नाम जाना पहचाना नहीं है।  अंग्रेजी साहित्य को पसंद करने वाले इस खबर पर उत्साहित हो सकते है। कमला दास मलयालम और अंग्रेजी की शीर्ष लेखिका रही है। उनकी हैसियत का कयास इसी बात से लगाया जा सकता है कि साहित्य अकादमी पुरूस्कार के अलावा उन्हें कई अंतराष्ट्रीय पुरुस्कारों से सम्मानित किया गया है।  उनकी कविताये एम् पी बोर्ड , सी बी एस इ , और एन सी आर टी, के पाठ्य क्रमो में शामिल है। 
 फिल्मकारों की दिलचस्पी कमला के लेखन में नहीं वरन उनकी निजी जिंदगी में है । । अपनी आत्मकथा में उन्होंने बेबाक  ढंग  से अपने  बारे में लिखा है। महज पंद्रह वर्ष की उम्र में ब्याह दी गई कमला ने स्वीकारा है कि उनके अन्य पुरुषों से भी संबंध थे। 
इसी तरह का एक उदाहरण अमृता प्रीतम का भी है।  पंजाबी की इस ख्यात लेखिका को ज्ञानपीठ पुरूस्कार से सम्मानित किया गया है। अमृता की आत्मकथा ' रसीदी टिकिट ' भी साहित्य और साफगोई का बिरला मोती है। वर्षों तक पेंटर इमरोज के साथ लिव इन रिलेशन में रही अमृता गीतकार साहिर लुधियानवी की भी प्रेमिका रही। यह बात उन्होंने बहुत ही सरल शब्दों में अपनी आत्मकथा में स्वीकारी है। साहिर के लिखे अधिकांश फ़िल्मी गीतों में अमृता की उपस्तिथि को महसूस किया जा सकता है।  अमृता के जीवन पर भी एक फिल्म की घोषणा हो चुकी है। 
कहने को बॉलीवुड में दुनिया की सबसे ज्यादा फिल्मे बनती है परंतु उनका स्तर दोयम दर्जे का ही होता है। बायोपिक या आत्मकथ्य पर बनने वाली फिल्मो में जिस समझदारी और गंभीरता की जरुरत होती है उस तथ्य का बॉलीवुड में सर्वथा अभाव रहा है।  अमृता या कमला अपने समय से आगे जीने वाली लेखिकाएं  थी। इनके चरित्र के साथ पूरा न्याय होना चाहिए। सनसनी और उत्तेजना का आदि हो चूका भारतीय दर्शक इन फिल्मों में वही तलाशेगा जो उसे नहीं तलाशना चाहिए।  

1 comment:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन और देविका रानी में शामिल किया गया है।कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete

आधा किलोमीटर दूर मयकदा

हमारे देश में हास्य और आनद की सीमा शुष्क राजनेता और अदालते तय करते है। कैसे कपडे पहनना है कैसा भोजन करना है , क्या नहीं करना है जैसी...